CAB Protest in Delhi : दिल्‍ली में हिंसक हुआ प्रदर्शन, जामिया के छात्रों को मिला JNU का साथ


नई दिल्‍ली, एजेंसी।  CAB Protest in Delhi  LIVE  : नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन ने रविवार को राजधानी में हिंसक रूप धारण कर लिया। प्रदर्शनकारियों ने साउथ दिल्ली के न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में जमकर तांडव मचाया। उन्‍होंने तीन बसों, कारों और कुछ मोटरसाइकलों को आग के हवाले कर दिया। आग बुझाने के लिए तत्काल चार दमकल वाहनों को भेजा गया लेकिन उग्र प्रदर्शनकारियों ने एक दमकल वाहन को बुरी तरह क्षतिग्रस्त कर दिया। इसमें दो दमकलकर्मी जख्मी हुए हैं। इस बीच, दक्षिण दिल्ली के चार मेट्रो स्टेशन पर एंट्री और एग्जिट बंद कर दिया गया है।



जामिया इलाके में रविवार को हिंसक प्रदर्शन हुआ. जिसके बाद पुलिस ने मौके पर पहुंचकर प्रदर्शनकारियों को खदेड़ा. बाद में पुलिसकर्मियों ने अराजक तत्वों के जामिया मिलिया विश्वविद्यालय में घुसे होने के संदेह पर कैंपस से सभी छात्रों को बाहर निकाल दिया. हालांकि विश्वविद्यालय प्रशासन और छात्रों का आरोप है कि पुलिस ने उनके साथ बर्बरता की. जामिया प्रशासन का आरोप है कि पुलिस, कैंपस के अंदर घुस गई और छात्रों व वहां काम करने वाले स्टाफ को पीटा.


रविवार रात नौ बजे के करीब सभी छात्र और विश्वविद्यालय प्रशासन के लोग दिल्ली के आईटीओ स्थित पुलिस मुख्यालय पहुंच गए और पुलिस के कथित क्रूर एक्शन के खिलाफ प्रदर्शन करने लगे. 

वहीं रात 11.30 बजे कांग्रेस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जामिया की घटना पर गृह मंत्री अमित शाह और मोदी सरकार को कठघड़े में खड़ा किया है.


इससे पहले जामिया मिलिया इस्लामिया (JMI) के छात्रों ने सभी दिल्लीवासियों और अन्य छात्रों से दिल्ली पुलिस मुख्यालय के बाहर रात 9 बजे जमा होने की अपील की थी. वहीं जेएनयू के छात्रों से रात 8.30 बजे साबरमती ढाबा के पास इकट्ठा होने को कहा था.


जामिया इलाके के होली फैमिली अस्पताल में 11 घायल छात्रों को इलाज के लिए लाया गया है. वहीं 24 छात्रों को हल्की चोटें आई हैं. जबकि हिंसक प्रदर्शन को रोकने के दौरान 6 पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं. 


जामिया मिलिया इस्लामिया की कुलपति नजमा अख्तर ने कहा कि जामिया की छात्रों ने आज के प्रदर्शन का आह्वान नहीं किया। मुझे बताया गया है कि जामिया के समीप कॉलोनियों से जुलैना की ओर मार्च करने के लिए कॉल आया था। वे पुलिस से भिड़ गए और विश्वविद्यालय का गेट तोड़ने के बाद परिसर के अंदर घुस गए। पुलिस लाइब्रेरी में बैठे प्रदर्शनकारियों और छात्रों के बीच अंतर नहीं कर सकी। इसमें कई छात्र और कर्मचारी घायल हो गए। इतना हंगामा हुआ कि पुलिस अनुमति नहीं ले सकी। मुझे अपने छात्रों की शांति और सुरक्षा की उम्मीद है।


दिल्ली ट्रैफिक पुलिस की गाइडलाइन

- दिल्ली के मॉडल टाउन मेट्रो स्टेशन को भी बंद किया गया।


- ओखला के होली फेमिली हॉस्पिटल के प्रवक्ता फादर जॉर्ज पीए ने कहा, हमें लगभग 26 विश्वविद्यालय (जामिया मिलिया इस्लामिया) के छात्र मिले, जिन्हें मामूली चोटें आईं थीं। उनमें से ज्यादातर को अब छुट्टी दे दी गई है। दो पुलिस कर्मियों को भी सिर में चोट लगने के कारण भर्ती किया गया, शायद पथराव हुआ है।


- प्रदर्शन के बाद दिल्‍ली में 15 से अधिक दिल्ली मेट्रो स्टेशनों के प्रवेश और निकास द्वार बंद किए गए।


- दिल्ली गेट और प्रगति मैदान मेट्रो स्टेशन भी बंद किए गए।


रविवार शाम जामिया इलाके में हिंसक हो गया CAA का विरोध प्रदर्शन


- जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी मामले में दिल्ली पुलिस हेडक्वॉर्टर का घेराव करने रविवार देर रात प्रदर्शनकारी पहुंचे। पुलिस की कार्रवाई के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। दिल्ली मेट्रो के आईटीओ और आईआईटी मेट्रो स्टेशन पर भी बंद किए गए। इन स्टेशनों पर नहीं मेट्रो रुकेगी ।

-पुलिस की कार्रवाई के विरोध में जामिया मिलिया इस्लामिया के छात्रों ने सभी दिल्लीवासियों और अन्य छात्रों से दिल्ली पुलिस मुख्यालय के बाहर रात 9 बजे जमा होने की अपील की थी। वहीं जेएनयू के छात्रों से रात 8.30 बजे साबरमती ढाबा के पास इकट्ठा होने को कहा गया था।


- दिल्ली पुलिस के डीसीपी चिन्मय बिस्वाल ने कहा कि प्रदर्शनकारी जामिया मिल्लिया यूनिवर्सिटी के छात्र थे या नहीं, यह पता नहीं चल पाया है। यूनिवर्सिटी के अंदर से पत्थरबाजी हो रही थी, जहां से पत्थरबाजी हो रही थी, वहां पुलिस गई। आज दोपहर में प्रदर्शनकारी भीड़ ने डीटीसी बसों में तोड़फोड़ की, मोटरसाइकिलों में भी तोड़फोड़ की। पुलिस पर पत्थरबाजी भी की गई। पुलिस ने कोई भी गोली अब तक नहीं चलाई है, पुलिस के 6 लोग घायल हुए हैं।


जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के परिसर के बाहर पुलिसकर्मियों और प्रदर्शनकारी के बीच जमकर झड़प हुई। पुलिस द्वारा प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस के गोले दागे गए। एजेंसी के अनुसार, दिल्ली पुलिस ने जामिया मिलिया इस्लामिया परिसर में प्रवेश किया और कुछ 'बाहरी लोगों' को ठिकाने लगाने के लिए विश्वविद्यालय के द्वार को बंद कर दिया, जिन्‍होंने छिपने के लिए परिसर में प्रवेश किया गया था। इस दौरान कई छात्रों को हिरासत में लिया गया।


पुलिस ने की जवाबी कार्रवाई 

प्रदर्शनकारियों ने रविवार को जामियानगर से ओखला की तरफ मार्च निकाला। बताया जाता है कि प्रदर्शनकारियों में जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के छात्रों भी शामिल थे। इस दौरान पुलिस के साथ उनकी झड़प हो गई, जिसके बाद प्रदर्शनकारी उग्र हो गए और आगजनी करने लगे। पुलिस ने जवाबी कार्रवाई करते हुए आंसू गैस के गोले छोड़े और लाठीचार्ज किया। प्रदर्शनाकरियों ने पथराव कर कुछ बसों के शीशे भी तोड़ दिए और फायर ब्रिगेड की गाड़ी को भी नुकसान पहुंचाया। 


चार मेट्रो स्‍टेशन बंद किए गए  

विरोध प्रदर्शन के बाद दिल्ली मेट्रो ने 4 स्टेशनों पर मेट्रो सेवा पर बंद की। सुखदेव विहार, जामिया मिल्लिया इस्लामिया, ओखला विहार, जसोला विहार शाहीन बाग मेट्रो स्टेशन पर सभी गेट बंद किए गए। यहां मेट्रो नहीं रुकेगी। 


दक्षिण दिल्‍ली के स्‍कूल कल रहेंगे बंद

दिल्‍ली के उप मुख्‍यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बताया कि दिल्ली के ओखला, जामिया, न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी, मदनपुर खादर क्षेत्र के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूल कल बंद रहेंगे। नागरिकता कानून के विरोध में प्रदर्शन को देखते हुए दिल्ली सरकार ने स्कूल बंद रखने का निर्णय लिया। 

दिल्ली पुलिस के पीआरओ एमएस रंधावा ने कहा है कि स्थिति अब काबू में है। मैं दिल्ली के लोगों से अफवाहों पर ध्यान नहीं देने की अपील करता हूं। दिल्ली पुलिस स्थिति को मॉनिटर कर रही है। हम जल्द ही असामाजिक तत्वों की पहचान कर उनपर कड़ी कार्रवाई करेंगे।


दक्षिण दिल्‍ली में ट्रैफिक हुआ प्रभावित 

प्रदर्शनकारियों ने न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी के सामने मथुरा रोड के दोनों कैरेजवे को बाधित कर दिया है। उधर, एहतियातन कदम उठाते हुए ट्रैफिक पुलिस ने ओखला अंडरपास से सरिता विहार जाने वाले मार्ग पर ट्रैफिक को रोक दिया है। लोगों से अपील की गई है कि वे इस रास्ते न गुजरें। 

रविवार शाम जामिया इलाके में हिंसक हो गया CAA का विरोध प्रदर्शन

नागरिकता संशोधन कानून पर देश की राजधानी दिल्ली के जामिया इलाके में एक बार फिर से हिंसा हुई. रविवार शाम जामिया में प्रदर्शन काफी उग्र हो गया. पुलिस के मुताबिक प्रदर्शनकारियों ने कई बसों में आग लगा दी. आग बुझाने के लिए दमकल की 4 गाड़ियां मौके पर पहुंची थीं. बसों में लगी आग बुझाने के दौरान ही प्रदर्शनकारियों ने गाड़ियों पर हमला कर दिया, जिसमें एक फायरमैन को काफी चोटें आई हैं. जामिया की लाइब्रेरी में भी तोड़-फोड़ की गई है. कुछ देर अराजकता की स्थिति रहने के बाद पुलिस ने अब इलाके में फ्लैग मार्च किया है. अब हालात नियंत्रण में है. इलाके में भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है. डीसीपी चिन्मय बिस्वाल ने कहा है कि स्थिति अब नियंत्रण में है.

अन्य राज्यों में भी प्रदर्शन जारी

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ दिल्ली के अलावा पश्चिम बंगाल, पटना, बैंगलोर, गुवाहटी, उत्तराखंड और अलीगढ़ में भी पूरे दिन प्रदर्शन जारी रहा.

पश्चिम बंगाल के विभिन्न हिस्सों में रविवार को लगातार तीसरे दिन विरोध प्रदर्शन को देखते हुए राज्य सरकार ने प्रदेश के छह जिलों में इंटरनेट सेवा पर रोक लगा दी है.

वहीं यूपी के अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में भी रविवार शाम छात्रों ने जबरदस्त हंगामा किया. पुलिस ने उन्हें रोकने के लिए लाठीचार्ज किया. साथ ही आंसू गैस का भी इस्तेमाल किया. हालात के मद्देनजर विश्वविद्यालय, 5 जनवरी तक के लिए बंद कर दिया गया है.वहीं इंटरनेट सेवा 16 दिसंबर की रात 10 बजे तक के लिए बंद कर दी गई है.


दिल्ली पुलिस बोली- हम पर पथराव किया गया

डीसीपी चिन्मय बिस्वाल ने आज तक से बात करते हुए कहा कि कानून-व्यवस्था बनाने के लिए हमने उग्र भीड़ को तितर-बितर किया है. कैंपस के अंदर से हम पर पथराव किया गया. प्रॉक्टर को जांच करनी चाहिए कि कौन लोग हैं जिन्होंने हम पर पथराव किया है. अभी हालात सामान्य है. कुछ लोगों को हिरासत में लिया गया है.  4 हजार से पांच हजार लोग सुबह से प्रदर्शन कर रहे थे|


अमानतुल्लाह खान ने हिंसा में हाथ होने से किया इनकार

जामिया में बवाल अब राजनीतिक रूप लेता जा रहा है. बीजेपी नेता मनोज तिवारी और कपिल मिश्रा ने AAP (आम आदमी पार्टी) नेता अमानतुल्लाह खान पर हिंसा भड़काने का आरोप लगया है. इसके जवाब में आजतक से बात करते हुए अमानतुल्लाह खान ने स्पष्ट किया है कि वो इस प्रदर्शन में शामिल नहीं थे. उन्होंने बातचीत के दौरान कहा कि वो जामिया इलाके में ही नागरिकता कानून के विरोध में आयोजित एक अन्य कार्यक्रम में हिस्सा ले रहे थे. पुलिस चाहे तो सीसीटीवी कैमरा देख सकती है. मेरा उस हिंसा में कोई हाथ नहीं है.

8 views

Subscribe Our Letter

  • White Facebook Icon

© 2019 all right reserved Hind Daily . Proudly powered by Hind Classes