क्या उत्तर कोरिया की पहली महिला सुप्रीम लीडर बनेंगी किम यो जोंग !


उत्तर कोरिया के मार्शल किम जोंग उन की खराब हालत की अटकलों के बीच नॉर्थ कोरिया में किम के उत्तराधिकारी को लेकर भी कयास लगाए जा रहे हैं. कयास इस बात के हैं कि अगर किम को कुछ हो गया तो उनका उत्तराधिकारी कौन होगा? तो इसे लेकर फिलहाल दो नाम आ रहे हैं. इनमें से एक किम की पत्नी हैं और दूसरी बहन. मगर जानकारों की मानें तो किम की बहन का पलड़ा ज्यादा भारी है. और अगर ऐसा हुआ तो किम की बहन किम यो जोंग ना सिर्फ दुनिया की पहली महिला तानाशाह होंगी. बल्कि उत्तर कोरिया की पहली महिला सुप्रीम लीडर भी बनेंगी


कौन है किम यो जोंग


किम यो जोंग सात भाई-बहनों में सबसे छोटी हैं. किम के पिता किम इल ने पांच शादियां की थीं. मार्शल किम जोंग उन और किम यो जोंग किम इल की तीसरी पत्नी यानी एक ही मां की संतान हैं और दोनों बचपन से ही करीबी रहे हैं. 11 अप्रैल को खुद किम जोंग उन ने अपने बाद किम यो जोंग को अपना उत्तराधिकारी बनाए जाने का इशारा तब दिया था, जब उन्होंने नॉर्थ कोरिया के पोलित ब्यूरो की मीटिंग में अपनी बहन का नाम अल्टरनेट मेंबर के तौर पर तय किया था. बहन को पोलित ब्यूरो के अल्टरनेट मेंबर बनाने का ये एलान 11 अप्रैल को खुद किम जोंग उन ने किया था.


किम जोंग उन के साथ साए की तरह रहती हैं किम यो जोंग


जब मार्शल किम अपने मुल्क में होते हैं, तब यो जोंग उनके साथ होती हैं. जब दक्षिण कोरिया जाते हैं, तब यो जोंग उनके आगे पीछे होती हैं. जब किम सिंगापुर में अमेरिकी राष्ट्रपति से मिलते हैं, तब यो जोंग उनके पीछे-पीछे होती हैं. किम के साथ अगर कोई हर वक्त साए की तरह रहता है. तो वो उनकी बीवी नहीं बल्कि बहन किम यो जोंग हैं. वो कब कहां किससे मिलेंगे. ये बिना यो जोंग की इजाजत के तय नहीं होता है. उनकी हर मीटिंग की रुपरेखा यो जोंग खुद तैयार करती हैं. जिन जगहों पर किम नहीं जा सकते, यो जोंग वहां उनकी जगह उत्तर कोरिया का प्रतिनिधित्व करती हैं.


यहां तक की अमेरिकी राष्ट्रपति से किम की मुलाकात में भी किम यो जोंग ने ही अहम भूमिका निभाई थी. इसीलिए ऐसी अटकलें लगाईं जा रही है कि अगर किम को कुछ होता है तो उनकी जगह उत्तर कोरिया की पहली महिला सुप्रीम लीडर बन सकती हैं किम यो जोंग.


उत्तर कोरिया की सुप्रीम लीडर की कुर्सी और किम यो जोंग के बीच एक रोड़ा तब भी होगा और वो ये कि नॉर्थ कोरिया जब से वजूद में आया है, वहां कभी भी इस हाई रैंक पर कोई फीमेल लीडर पावर में नहीं रही. मगर नॉर्थ कोरिया में कब कहां क्या हो जाए इसका अंदाजा लगाना मुश्किल है. तो सवाल ये है कि क्या किम यो जोंग के हाथों में नॉर्थ कोरिया सुरक्षित रहेगा. क्या उत्तर कोरिया ने जो 6-6 परमाणु बम बना रखे हैं. उसका बटन अगर किम यो जोंग के हाथों में आया तो दुनिया महफूज रहेगी. ऐसा इसलिए क्योंकि उत्तर कोरिया में माना जाता है कि यो जोंग मार्शल किम से भी ज्यादा सख्त और क्रूर हैं.


किम से ज्यादा क्रूर हैं यो जोंग?


ब्रिटिश अंग्रेजी अखबार द मिरर के मुताबिक जानकार इस बात की चेतावनी दे रहे हैं कि किम यो जोंग बेहद क्रूर हैं. कहा जाता है कि यो जोंग पार्टी के लोगों को उन्हें सम्मान और डर से पेश आने के लिए कहती हैं. नॉर्थ कोरिया की मीडिया हमेशा उनका जिक्र करती है. क्योंकि वाइस डायरेक्टर का पद भले ही न मिला हो, लेकिन हैसियत वही है. ऑर्गनाइजेशन ऐंड गाइडेंस डिपार्टमेंट में किम यो जांग के बढ़ते कद ने उन्हें वर्कर्स पार्टी के ब्यूरोक्रैट्स की नजरों में नॉर्थ कोरिया का नंबर 2 बना दिया. OGD में उन्हें अहमियत मिलना इस बात का भी सबूत है कि कई साल से उन्हें इसके लिए तैयार किया जा रहा था कि अगर जोंग उन को कुछ होता है तो यो जोंग उनकी जगह लेने के लिए ढल चुकी हैं.


हालांकि किम यो जोंग ने हमेशा अपने भाई के पीछे रहते हुए ही अपनी खुद की जगह बनाई है. उन्होंने कभी अपने भाई के आगे आकर किसी तरह की प्रतियोगिता को पैदा करने की कोशिश नहीं की. बल्कि दुनिया के सामने अपने भाई की सकारात्मकक छवि बनाने की कोशिश भी की. किम ने भी अपनी इस बहन के कद को वक्त-वक्त पर बढ़ाया है. शायद यही वजह रही कि किम यो जोंग उत्तर कोरिया के अहम राजनीतिक और डिप्लोमैटिक मुद्दों पर अपनी राय रखती रहीं हैं. अक्सर किम यो जोंग बेबाक बयानों ने उसकी ताकत का नमूना भी पेश किया.


जब उत्तर कोरिया के लाइव फायर मिलिट्री अभ्यास का दक्षिण कोरिया ने विरोध किया तो किम यो जोंग ने कहा था कि 'डरे हुए कुत्ते भौंक रहे हैं'. इससे पहले किम यो जोंग ने सार्वजनिक रूप से अमेरिकी राष्ट्र पति डोनाल्ड ट्रंप की पत्र भेजने के लिए प्रशंसा की थी. उन्होंने आशा जताई थी कि उत्तर कोरिया और अमेरिका के बीच संबंध बेहतर होंगे.

0 व्यूज

Subscribe Our Letter

  • White Facebook Icon

© 2019 all right reserved Hind Daily . Proudly powered by Hind Classes